असम के चाय बागानों, पहाड़ी इलाकों में राशन कार्ड से 'गरीब' आधार सीडिंग

राशन कार्डों को आधार से जोड़ने (लिंक करने) की आखिरी तारीख 30 जून थी।
असम के चाय बागानों, पहाड़ी इलाकों में राशन कार्ड से 'गरीब' आधार सीडिंग

गुवाहाटी: राशन कार्डों को आधार से जोड़ने (लिंक करने) की अंतिम तिथि 30 जून थी। पहाड़ी क्षेत्रों और चाय बागान क्षेत्रों में राशन कार्डों की आधार सीडिंग 'संतोषजनक' नहीं रही है। खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति निदेशालय ने इन क्षेत्रों में राशन कार्डों की आधार सीडिंग को पूरा करने के लिए सरकार से और समय मांगा है।

केंद्र सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार, लाभार्थियों को अपने राशन कार्डों को आधार कार्ड से जोड़ना (लिंक) करना होगा या उन्हें खाद्यान्न मिलना बंद हो सकता है।पहाड़ी क्षेत्रों और चाय बागानों के क्षेत्रों में यह देखा गया है कि आधार नामांकन के महत्व के साथ-साथ राशन कार्डों के साथ इसके जुड़ाव के बारे में लोगों में उचित जागरूकता की कमी के कारण, राशन कार्डों की आधार सीडिंग खराब रही है।

मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने सभी संबंधित उपायुक्तों को चाय बागान क्षेत्रों और पहाड़ी क्षेत्रों में विशेष आधार नामांकन शिविर आयोजित करने के निर्देश दिए हैं |खाद्य और नागरिक आपूर्ति निदेशालय के अनुसार, असम में लगभग 58 लाख राशन कार्ड और 2.25 करोड़ लाभार्थी हैं।अब तक राशन कार्डों की 93 प्रतिशत आधार सीडिंग हो चुकी है जबकि 72 प्रतिशत लाभार्थियों की आधार सीडिंग का काम पूरा हो चुका है।

logo
hindi.sentinelassam.com