Top
undefined
Begin typing your search above and press return to search.

सिंधु का सामना करके लगा शीर्ष स्तर पर पहुंच सकती हूं : मालविका बनसोद

सिंधु का सामना करके लगा शीर्ष स्तर पर पहुंच सकती हूं : मालविका बनसोद

Sentinel Digital DeskBy : Sentinel Digital Desk

  |  8 Jun 2019 12:25 PM GMT

नई दिल्ली। किसी भी खिलाड़ी की असल परीक्षा तब होती है जब वह अपने से बेहतर और ऊंचे स्तर के खिलाड़ी के साथ खेलता है। तब उसे अपने खेल की असलीयत पता चलती है। ऐसी ही कुछ भारत की उभरती महिला बैडमिंटन खिलाड़ी मालविका बनसोद के साथ हुआ। मालविका बनसोद रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता पी.वी. सिंधु का सामना कर चुकी हैं और उस मैच के बाद से उन्हें आत्मविश्वास आया कि वह भी शीर्ष स्तर पर खेल सकती हैं। महाराष्ट्र के नागपुर की मालविका ने इसी महीने तिरुवनंतपुरम में हुए ऑल इंडिया जूनियर रैंकिंग बैडमिंटन टूर्नामेंट में लड़कियों के अंडर-19 वर्ग में स्वर्ण पदक जीता। भारत की स्टार खिलाड़ी सायना नेहवाल और सिंधु के बाद 1। वर्षीय मालविका इस प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक जीतने वाली सबसे युवा खिलाड़ी हैं।

बाएं हाथ की खिलाड़ी ने फाइनल मुकाबले में उन्नति बिष्ट को महज 32 मिनट में 21-7, 21-9 से हराकर खिताब अपने नाम किया। मालविका बनसोद ने कहा कि सिंधु के खिलाफ खेलने के बाद उनका आत्मविश्वास बहुत बढ़ा और वह भविष्य में आने वाली हर चुनौती का सामना करने के लिए तैयार है। मालविका ने आईएएनएस के साथ साक्षात्कार में कहा, गुवाहाटी में हुए सीनियर नेशनल्स में मैंने सिंधु का सामना किया। मैंने 40 मिनट तक उनका मुकाबला किया और मुझे 11-21, 13-21 से हार झेलनी पड़ी, लेकिन इस मैच से मुझे बहुत कुछ सीखने को मिला और मुझे एहसास हुआ कि मैं शीर्ष खिलाडिय़ों के खिलाफ खेल सकती हूं। मालविका ने कहा, सिंधु जैसी खिलाड़ी के खिलाफ खेलकर पता चलता है कि हममें और उनमें कितना अंतर है। हमें कहां-कहां काम करना है। सिंधु बहुत लंबी है जिसका उन्हें बहुत लाभ मिलता है, उनकी स्पीड बहुत तेज है और उनके स्ट्रोक में बहुत पावर भी है। यह सब मैं एक दिन में नहीं सीख पाऊंगी क्योंकि यह सब चीजें उम्र के साथ बेहतर होती हैं, लेकिन मैं लगातार मेहनत करती रहूंगी।आईएएनएस

Also Read: खेल

Next Story