Begin typing your search above and press return to search.

भारतीय दिग्गज महिला क्रिकेट खिलाड़ी मिताली राज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लिया

इतने सालों तक टीम का नेतृत्व करना सम्मान की बात थी। इसने मुझे निश्चित रूप से एक व्यक्ति के रूप में आकार दिया और उम्मीद है कि भारतीय महिला क्रिकेट को भी आकार देने में मदद मिलेगी।

भारतीय दिग्गज महिला क्रिकेट खिलाड़ी मिताली राज ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लिया

MadusmitaBy : Madusmita

  |  2022-06-08T19:03:52+05:30

नई दिल्ली: भारतीय दिग्गज महिला बल्लेबाज मिताली राज ने बुधवार को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने की घोषणा की।

माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट पर , उन्होंने एक लंबा नोट पोस्ट किया, जिसमें उन्होंने कहा, 'सभी यात्राओं की तरह, इसे भी समाप्त होना चाहिए। आज वह दिन है जब मैं अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले रही हूं।"नोट में आगे मिथली ने लिखा, "इतने सालों तक टीम का नेतृत्व करना सम्मान की बात थी। इसने मुझे निश्चित रूप से एक व्यक्ति के रूप मे निखार दिया और उम्मीद है कि इससे भारतीय महिला क्रिकेट को भी निखारने में मदद मिलेगी।"

उन्होंने वर्ष 1999 में अपनी कैरियर की शुरुआत की। मिताली भारतीय क्रिकेट खेलने वाली सबसे महान खिलाड़ियों में से एक बनी और भारतीय महिला क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में अग्रणी रन-स्कोरर बनकर क्रिकेट से अब संन्यास ले लिया।

अपने पिछले 23 वर्षों को सबसे चुनौतीपूर्ण, आनंददायक और सफल मानते हुए, मिताली ने अपने क्रिकेट खेल से संन्यास की घोषणा की। उनकी उम्र 37 साल है और उनका आखिरी मैच भारत के लिए 2022 का महिला विश्व कप रहा। हालांकि उनकी टीम सेमीफाइनल में नहीं पहुंच पाई थी।

उन्होंने आगे कहा "मैं एक छोटी लड़की के रूप में इंडिया ब्लूज़ पहनने की यात्रा पर निकली ,क्योंकि अपने देश का प्रतिनिधित्व करना मेरे लिए सर्वोच्च उपाधि है। मेरी यह यात्रा उतार-चढ़ाव से भरी थी। प्रत्येक घटना ने मुझे कुछ अनूठा सिखाया और पिछले 23 वर्ष मेरे जीवन के पूरे, चुनौतीपूर्ण और सुखद रहे'' ।उन्होंने आगे लिखते हुए कहा कि ,"एक खिलाड़ी के रूप में और फिर भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान के रूप में मुझे मिले सभी समर्थन के लिए बीसीसीआई और जय शाह सर (बीसीसीआई के मानद सचिव) का धन्यवाद।इतने सालों तक टीम का नेतृत्व करना सम्मान की बात थी। इसने मुझे निश्चित रूप से एक व्यक्ति के रूप में निखार दिया और उम्मीद है कि इससे भारतीय महिला क्रिकेट को भी निखारने में मदद मिलेगी।"

यह भी पढ़ें: मुक्केबाज शिव थापा ने की बर्मिंघम में राष्ट्रमंडल खेलों के लिए अपनी जगह पक्की

Next Story