Begin typing your search above and press return to search.

असम सरकार ने नए कोविड प्रतिबंधों को खारिज किया

राज्य सरकार ने राज्य में कोविड -19 मामलों में वृद्धि के बावजूद किसी भी नए कोविड -19 प्रतिबंध से इनकार किया है।

असम सरकार ने नए कोविड प्रतिबंधों को खारिज किया

Sentinel Digital DeskBy : Sentinel Digital Desk

  |  20 Jan 2022 6:27 AM GMT

गुवाहाटी: राज्य सरकार ने राज्य में कोविड -19 मामलों में वृद्धि के बावजूद किसी भी नए कोविड -19 प्रतिबंध को खारिज कर दिया है।

मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा, "हमारी चिंता अस्पताल में भर्ती मरीजों की संख्या है। हालांकि राज्य में नए कोविड -19 मामले बढ़ रहे हैं, उनमें से केवल 12 प्रतिशत ही अस्पतालों में हैं। राज्य में कोविड-19 बिस्तरों की कुल संख्या और कब्जे में लिए गए बिस्तरों के बीच का अंतर काफी ज्यादा है। हम होम आइसोलेशन दिशानिर्देशों में कुछ बदलाव लाए हैं।"

प्रमुख सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अनुराग गोयल ने यह आदेश जारी किया है। राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने आईसीएमआर दिशानिर्देशों के अनुरूप कोविड-19 रोगी प्रबंधन के लिए अपने दिशानिर्देशों में संशोधन किया है। एक स्पर्शोन्मुख कोविड -19 रोगी केवल पांच दिनों के लिए अस्पतालों में रहेगा। यदि लगातार तीन दिनों में कोई भी कोविड-19 लक्षण सामने नहीं आता है तो अस्पताल उसे पांच दिनों में छुट्टी दे देगा। और डिस्चार्ज के समय कोविड-19 टेस्ट अनिवार्य नहीं है। डिस्चार्ज होने के बाद मरीज को सात दिन पहले के बजाय दो दिन के होम आइसोलेशन से गुजरना होगा। दो दिवसीय होम आइसोलेशन में यदि कोई समस्या आती है तो मरीज या परिजन 104 डायल करें।

यदि कोई लक्षण सामने नहीं आता है तो विभाग 7 वें दिन होम आइसोलेशन में बिना लक्षण वाले रोगियों पर विचार करेगा।

मेडिकल कॉलेजों, जिला अस्पतालों और निजी अस्पतालों में आकस्मिक/आपातकालीन सुविधाओं के लिए आने वाले किसी भी मरीज को तब तक कोविड परीक्षण के परिणाम की प्रतीक्षा नही करनीचाहिए जब तक कि रोगी में कोविड से संबंधित लक्षण न हों।

प्रसव के दौरान/निकटती गर्भवती महिलाओं और प्रसव के लिए अस्पताल में भर्ती सहित सर्जिकल/गैर-सर्जिकल इनवेसिव प्रक्रियाओं से गुजरने वाले स्पर्शोन्मुख रोगियों को कोविड परीक्षण से गुजरना नहीं चाहिए, जब तक कि गांरटी न हो या लक्षण विकसित न हों।

परीक्षण सुविधा के अभाव में अस्पताल की सुविधाओं को रोगियों को अन्य सुविधाओं के लिए रेफर नहीं करना चाहिए। उनके पास स्वास्थ्य सुविधा के लिए मैप की गई परीक्षण सुविधाओं के लिए नमूने एकत्र करने और स्थानांतरित करने की सभी व्यवस्थाएं होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें-मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने दीमा हसाओ के लोगों को परियोजनाएं समर्पित की

यह भी देखे-


Next Story
पूर्वोत्तर समाचार