Begin typing your search above and press return to search.

राज्य सरकार व्यक्तिगत सुरक्षा को कम करने का कार्य कर रही है

राज्य सरकार मंत्रियों और वीआईपी के सुरक्षा कर्मियों और अनुरक्षण को कम करेगी, विधायकों और अन्य राजनीतिक नेताओं से जुड़े लोगों की तो बात ही छोड़िए।

राज्य सरकार व्यक्तिगत सुरक्षा को कम करने का कार्य कर रही है

Sentinel Digital DeskBy : Sentinel Digital Desk

  |  31 Dec 2021 6:58 AM GMT

गुवाहाटी: राज्य सरकार मंत्रियों और वीआईपी के सुरक्षा कर्मियों और अनुरक्षण को कम करेगी, विधायकों और अन्य राजनीतिक नेताओं से जुड़े लोगों की तो बात ही छोड़िए। इसके लिए सरकार जल्द ही दिशा-निर्देश जारी करेगी।

एक आधिकारिक सूत्र ने कहा, "सरकार मंत्रियों, वीआईपी, विधायकों और अन्य लोगों की सुरक्षा के लिए तैनात पुलिस कर्मियों के एक वर्ग को पुलिस थानों में दिन-प्रतिदिन की ड्यूटी में शामिल करना चाहती है। केस डायरी, जांच, अपराधों के खिलाफ अभियान को बनाए रखना चाहती है। पुलिस थानों में स्टाफ की कमी का खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने अपनी पार्टी के सहयोगियों से कुछ दिन पहले अपने पीएसओ (निजी सुरक्षा अधिकारी) को छोड़ने की अपील की। मुख्यमंत्री के उस आह्वान पर उनकी पार्टी के सहयोगियों ने प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

सूत्रों ने कहा कि व्यवसायियों और अन्य व्यक्तियों के लिए पीएसओ की कटौती जारी है। पिछले छह महीनों में, 77 पीएसओ/सुरक्षा कर्मियों को या तो 'बंद' कर दिया गया या 35 वीआईपी से कम कर दिया गया। राज्य के विभिन्न विद्रोही समूह या तो शांति वार्ता में हैं या सरकार के साथ संघर्ष विराम में हैं। राज्य में स्थिति अब लगभग सामान्य है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि अब बड़ी संख्या में पीएसओ की तैनाती की जरूरत नहीं है।

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, सरकार कई कारों के साथ गुवाहाटी शहर और राज्य के अन्य शहरों में यात्रा करने वाले मंत्रियों और अन्य वीआईपी के बवंडर को भी रोकना चाहती है। यह प्रथा आम लोगों के लिए परेशानी का सबब है। सूत्रों ने कहा कि संवेदनशील इलाकों में एस्कॉर्ट्स जरूरी हैं।

सेवानिवृत्त आईएएस और आईपीएस अधिकारियों के एक वर्ग के पास भी सुरक्षाकर्मी उनकी आवश्यकता से अधिक हैं। सूत्रों ने कहा कि सरकार उनके सुरक्षा कवर को भी युक्तिसंगत बनाएगी।

यह भी पढ़ें-अगले वित्तीय वर्ष से शुरू होगा माजुली-लखीमपुर परियोजना का कार्य

यह भी देखे-



Next Story